cryptocurrency in detail

Bitcoin क्या है, बिटकॉइन की कीमत, यह कैसे काम करता है जानें यहां पर

Bitcoin kya Hai: साल 2009 में, एक गुमनाम डेवलपर ने खुद को सातोशी नाकामोटो के रूप में पेश किया और बिटकॉइन के विचार का सुझाव दिया। जबकि नाकामोटो ने 2010 में इस परियोजना को छोड़ दिया, उसके बाद यह समूह तेजी से बढ़ा। बिटकॉइन के मालिक उत्पादों को बेचने और खरीदने के साथ-साथ अन्य भौतिक मुद्राओं के लिए बिटकॉइन को स्वैप करने के लिए विभिन्न वेबसाइटों का उपयोग करते हैं। आगे आपको बताएंगे बिटकॉइन क्या है, इसकी कीमत क्या है और कैसे तय होती है साथ ही बताएंगे यह कैसे काम करता है?

बिटकॉइन क्या है बिटकॉइन का मतलब (What Cryptocurrency क्या है और यह कैसे काम करती है is Bitcoin? Bitcoin Meaning?)

बिटकॉइन एक Virtual Currency (भौतिक मुद्रा) है। जो की रुपए और डॉलर की तरह ही है लेकिन यह इनसे बिल्कुल ही अलग है क्योंकि बिटकॉइन को ना तो पैसे की तरह छू सकते हैं और ना ही देख सकते हैं बिटकॉइन का आविष्कार सतोशी नाकामोटो (Satoshi Nakamoto) ने 2009 में किया था। Bitcoin एक Cryptocurrency है। 1 बिटकॉइन के कीमत लाखों रुपए होती है। यह एक Decentralized Currency है, जिसका मतलब यह है की इसे कंट्रोल करने के लिए कोई भी बैंक या अथॉरिटी या सरकार नहीं है यानि के इसका कोई मालिक नहीं है।

बिटकॉइन की कीमत (Bitcoin Price Today)

आज 1 बिटकॉइन की कीमत 28,23,404.94 रुपए है। तो वहीं अन्य Cryptocurrency जैसे कि Ethereum(ETH) की कीमत 1,95,563 रुपए है और Tether(USDT) की कीमत 73.40 रुपए है। आपको बात दें की इन सभी मुद्राओं की कीमत हर रोज बदलती है। इसका पूरा कारोबार ऑनलाइन यानि की इंटरनेट पर होता है।

Bitcoin क्या है, बिटकॉइन की कीमत, यह कैसे काम करता है जानें यहां पर 1

Bitcoin

बिटकॉइन कैसे काम करती है? (How Does Bitcoin Work?)

पीयर-टू-पीयर तकनीक के कारण बिटकॉइन बिना किसी अथॉरिटी या बैंकों के बिना संचालित होता है। इसमे डिजिटल माध्यम से पेमेंट का मैसेज भेजना पड़ता Cryptocurrency क्या है और यह कैसे काम करती है है, जिसे दुनियभार में फैले विकेंद्रीकृत नेटवर्क के जरिए सत्यापित किया जाता है। बिटकॉइन ओपन-सोर्स है, जिसका अर्थ है कि इसका स्वामित्व किसी के पास नहीं है या इसका प्रबंधन नहीं करता है, और कोई भी भाग ले सकता है।

बिटकॉइन के कई अनूठे गुण इसे उन तरीकों से उपयोग करने की अनुमति देते हैं जो कोई अन्य भुगतान तंत्र नहीं कर पाया है।

बिटकॉइन वॉलेट क्या है? (What is Bitcoin Wallet?)

एक बिटकॉइन वॉलेट में दो चाबियां होती हैं: एक सार्वजनिक कुंजी और एक निजी कुंजी। ये चाबियां एक साथ काम करती हैं ताकि मालिक को लेनदेन शुरू करने और डिजिटल रूप से हस्ताक्षर करने की अनुमति मिल सके, जिससे authorization साबित हो सके।

भारत में बिटकॉइन कैसे निवेश करें? (How To Invest Bitcoins in India?)

आप क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज के साथ खाता खोलकर, फंड ट्रांसफर करके और उस पूंजी से बिटकॉइन खरीदकर बिटकॉइन में निवेश शुरू कर सकते हैं। बता दें की कई क्रिप्टो एक्सचेंज यह सेवाएं प्रदान कर रहे हैं।

आइए हम वज़ीरएक्स (WazirX) एक्सचेंज पर विचार करें, जिसमें एक त्वरित और आसान खाता खोलने की प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है, यह वेबसाइट उपयोग और लेनदेन में काफी आसान है, जिससे खाता खोलना और बिटकॉइन खरीदना आसान हो जाता है। वज़ीरएक्स की दुनिया के सबसे बड़े क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज, बिनेंस के साथ भी साझेदारी है।

चरण 1: WazirX पर साइन अप करें
चरण 2: विवरण दर्ज करें
चरण 3: ईमेल सत्यापन और खाता सुरक्षा सेटअप
चरण 4: देश का चयन करें और खाता चुनें
चरण 5: अपने खाते से पैसे ट्रांसफर करें
चरण 6: एक्सचेंज पर बिटकॉइन खरीदें और स्टोर करें प्रत्येक क्रिप्टोकरेंसी का अपना unique address है जिसका उपयोग केवल उस क्रिप्टोकरेंसी को प्राप्त करने के लिए किया जा सकता है।

इसके अलावा आप Unocoin और Zebpay पर भी बिटकॉइन खरीद सकते हैं। हालाँकि, आप दूसरे एक्सचेंज वेबसाईट का भी उपयोग कर सकते हैं, ज्यादातर सभी मामलों में प्रक्रिया समान होगी।

निवेश करने से पहले बिटकॉइन के बारे में जानने योग्य बातें (Things to Know About Bitcoin Before Investing)

  1. बिटकॉइन श्वेत पत्र पढ़ें: एक श्वेतपत्र एक ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (DRHP) का एक डिजिटल संस्करण है जो प्रोजेक्ट के हर एक पहलू का विवरण देता है। श्वेतपत्र एक तकनीकी दस्तावेज है जिसे संभावित निवेशकों को पूरी जानकारी प्रदान करने के लिए प्रत्येक प्रोजेक्ट के अनुसार अपनी वेबसाइट पर पोस्ट करता है।

2. अस्थिरता को समझना: लंबे समय से, आलोचकों ने इस बात पर जोर दिया है कि क्रिप्टोकरेंसी कितनी अप्रत्याशित हैं। यह किसी भी अन्य निवेश की तुलना में अधिक जोखिम भरा है, इसलिए आपको पता होना चाहिए कि यह एक उच्च जोखिम के साथ भी आता है।

3. कोई शासन नहीं: वर्तमान में, बिटकॉइन क्षेत्र को नियंत्रित करने वाले कोई बड़े नियम नहीं हैं। सरकार ने क्रिप्टोकरेंसी पर कड़ा रुख नहीं अपनाया है क्योंकि यह अभी भी अपेक्षाकृत नवीन क्षेत्र है। हालांकि, अगर बिटकॉइन सरकारी मुद्रा के लिए एक प्रतियोगी बन जाता है, तो टैक्स की कमी की समस्या को पैदा कर सकती है।

लेटेस्ट खबरें पढ़ने के लिए आप हमारे चैनल को फेसबुक, ट्वीटर और इंस्‍टाग्राम पर फॉलो और लाइक करें।

क्रिप्टो करेंसी क्या होता है (कैसे Cryptocurrency क्या है और यह कैसे काम करती है काम करती है,कहां से खरीदें,कैसे इनवेस्ट करे,भविष्य, प्रकार)

क्रिप्टो करेंसी क्या होता है (what is cryptocurrency)

क्रिप्टो करेंसी दरअसल, वित्तीय लेन-देन का एक जरिया है। बिल्कुल भारतीय रुपये और अमेरिकी डॉलर के समान, अंतर सिर्फ इतना है कि यह आभाषी है और दिखाई नहीं देती, न ही आप इसे छू सकते हैं। इसलिए इसे डिजिटल करेंसी भी कहते हैं।


इसका पूरा कारोबार ऑनलाइन माध्यम से ही होता है। जहां एक ओर किसी भी देश की करेंसी के लेन-देन के बीच में एक मध्यस्थ होता है, जैसे भारत में केंद्रीय बैंक, लेकिन क्रिप्टो के कारोबार में कोई मध्यस्थ नहीं होता और इसे एक नेटवर्क द्वारा ऑनलाइन संचालित किया जाता है। यही कारण है कि इसे अनियमित बाजार के तौर पर जाना जाता है, जो पल में किसी को अमीर बना देता है और एक झटके में उसे जमीन पर गिरा देता है। लेकिन बावजूद इस उतार चढ़ाव के इसको लेकर लोकप्रियता बढ़ती ही जा रही है।

ब्लॉकचैन क्या है(what is Blockchain)

ब्लॉकचैन एक ऐसा डिजिटल लेजर है, क्रिप्टो करेंसी का लेन-देन करने के लिए जिस प्रणाली का इस्तेमाल किया जाता है उसे ब्लॉकचेन कहते हैं। ये डिजिटल करेंसी इनक्रिप्टेड (कोडेड) होती हैं। इसे एक कंप्यूटर नेटवर्क के जरिए नियंत्रित किया जाता है। इसमें प्रत्येक लेन-देन का डिजिटल हस्ताक्षर द्वारा सत्यापन किया जाता है। इसका रिकॉर्ड क्रिप्टोग्राफी की मदद से नियंत्रित होता है। यह सारा काम कंप्यूटर नेटवर्क के जरिए चलता है। क्रिप्टो करेंसी में कोई लेन-देन होता है तो इसकी जानकारी ब्लॉकचेन में दर्ज की जाती है, यानी उसे एक ब्लॉक में रखा जाता है।

ब्लॉकचेन की विशेषताएं(Features of Blockchain)

  • यह एक डिजिटल लेजर है।
  • ब्लॉकचेन के डेटा को आसान से हैक नहीं किया जा सकता है।
  • इसमे होने वाली गतिविधियो को पता लगा जा सकता है।
  • (ट्रैंजेक्सन)लेन-देन की गति बहुत ज्यादा होती है

क्रिप्टोकरंसी कैसे काम करती है(How cryptocurrency works)

आसान भाषा में समझें तो क्रिप्टो करेंसी एक प्रकार की डिजिटल कैश प्रणाली है, जो एक निजी कंप्यूटर चेन से जुड़ी हुई है और कंप्यूटर एल्गोरिदम पर बनी है। इस पर किसी भी देश या सरकार का कोई नियंत्रण नहीं है। इसकी लोकप्रियता में इस कदर इजाफा हो रहा है कि कई देश इसे लीगल कर चुके हैं। अल सल्वाडोर में तो डिजिटल मुद्रा पर केंद्रित बिटक्वाइन सिटी बनाने की तैयारी भी शुरू हो चुकी है। क्रिप्टोकरंसी ब्लॉकचैन पर आधारित होती है और लेनदेन के डेटा को ब्लॉक में रखा जाता है और इसकी सुरक्षा क्रिप्टो माइनिंग द्वारा की जाती है और जो लोग क्रिप्टो माइनिंग करते हैं उन्हें क्रिप्टो माइनर्स के रूप में जाना जाता है।

क्रिप्टोकरंसी की विशेषताएं (Advantages of cryptocurrency)

  • क्रिप्टोकरंसी डिजिटल संपत्ति का एक रूप है |
  • यह विकेंद्रीकरण पर आधारित है और इसका मतलब है कि उस पर नियंत्रण केवल एक लोगों के पास नहीं है, दूसरे शब्दों में इसे एक व्यक्ति द्वारा नियंत्रित नहीं किया जा सकता है।
  • क्रिप्टोकरेंसी का आदान-प्रदान किया जा सकता है।
  • यह पूरी तरह से वर्चुअल सिक्का है और यह केवल ऑनलाइन उपलब्ध है।
  • इसमें पारदर्शिता है क्योंकि इसका अधिकांश कोड ओपन सोर्स है।

क्रिप्टो के नुकसान(Disadvantages of cryptocurrency)

  • क्रिप्टो का उपयोग गैर कनूनी कार्यों के लिए किया जाता है।
  • एक गलत लेनदेन के बाद, इसे पूरी तरह से पुनर्प्राप्त नहीं किया जा सकता है।
  • इसमें बड़ा जोखिम भी शामिल हो सकता है।
  • यह किसी एक संगठन या किसी व्यक्ति द्वारा संचालित नहीं है।
  • अगर आप क्रिप्टो वॉलेट की आईडी भूल जाते हैं, तो आपका सारा पैसा लूटा जा सकता है।
  • क्रिप्टो में बहुत सारे उतार-चढ़ाव हैं।

क्रिप्टोकरंसी का इतिहास(History of cryptocurrency)

1983 में, अमेरिकी क्रिप्टोग्राफर डेविड चाउम(David chaum) ने ईकैश(eCash) नामक एक क्रिप्टोग्राफ़िक इलेक्ट्रॉनिक मुद्रा की कल्पना की। बाद में, 1995 में, उन्होंने डिजीकैश(Digicash) के माध्यम से इसे लागू किया, क्रिप्टोग्राफिक इलेक्ट्रॉनिक भुगतान का एक प्रारंभिक रूप जिसमें उपयोगकर्ता सॉफ़्टवेयर की आवश्यकता होती है ,जिसकी सहायता से कई प्रमुख कार्य किये जाते हैं|

2009 में, पहली विकेन्द्रीकृत क्रिप्टोकरंसी को सातोशी नाकामोटा(satoshi Nakamota) द्वारा विकसित किया गया था और इसका नाम बिटकॉइन रखा गया। यह SHA-256 क्रिप्टोग्राफिक हैश के फंकशन का उपयोग करती है।

कुल क्रिप्टोकरंसी (Total cryptocurrency)

(Survey)सर्वेक्षण की एक रिपोर्ट के अनुसार अक्टूबर 2021 में लगभग 6000 क्रिप्टोकरेंसी उपलब्ध होने का दावा किया गया था और पिछले वर्षों की तुलना में, क्रिप्टोकरेंसी की संख्या में वृद्धि हुई है।

  • (2013) ~ 66 क्रिप्टो
  • (2014) ~ 506 क्रिप्टो
  • (2015) ~ 562 क्रिप्टो
  • (2016) ~ 644 क्रिप्टो
  • (2017) ~ 1335 क्रिप्टो
  • (2018) ~ 1658 क्रिप्टो
  • (2019) ~ 2817 क्रिप्टो

क्रिप्टो मार्केट क्या है(Whai is crypto market)

एक बाजार जहां ब्लॉकचेन आधारित डिजिटल मुद्रा खरीदी और बेची जा सकती है और साथ ही आप इस बाजार में कुछ प्रसिद्ध क्रिप्टो एक्सचेंजों के माध्यम से व्यापार कर सकते हैं जिन्हें क्रिप्टो ट्रेडिंग एक्सचेंज भी कहा जाता है।

क्रिप्टो करेंसी कहां से खरीदें(How to buy cryptocurrency)

देश में बिटक्वाइन अन्य क्रिप्टो करेंसी को खरीदना और बेचना काफी आसान है। सबसे खास बात यह है कि खरीदारी के ये सभी क्रिप्टो एक्सचेंज चौबीसों घंटे खुले रहते हैं। इनके जरिए क्रिप्टो करेंसी को खरीदने और बेचने की प्रक्रिया भी काफी आसान है। दुनिया भर में सैकड़ों क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज काम कर रहे हैं। भारत की अगर बात करें तो यहां पर काम कर रहे वजीरएक्स, जेबपे, क्वाइनस्विच कुबेर, क्वाइन डीसीएक्स गो समेत कई एक्सचेंज संचालित है। इसके अलावा क्वाइनबेस और बिनान्से जैसे अंतरराष्ट्रीय प्लेटफॉर्म भी मौजूद हैं, जहां से बिटक्वाइन, इथेरियम, टेथर और डॉजक्वाइन समेत दुनिया भर की डिजिटल मुद्राएं खरीदी जा सकती हैं। रुपये में क्रिप्टो ट्रेडिंग और निवेश करने के लिए आपको किसी एक एक्सचेंज पर पंजीकरण करना होता है।

Explained: क्रिप्टोकरेंसी क्या है? बिटकॉइन, इथर, डॉजीकॉइन के बारे में जानिए सब कुछ

क्रिप्टोकरेंसी के बारे पिछले कुछ महीनों से लोगों के मन में जबर्दस्त जिज्ञासाएं हैं. पिछले दिनों क्रिप्टोकरेंसी मुद्रा में जबर्दस्त उतार-चढ़ाव के कारण ऐसा हुआ है.

By: एबीपी न्यूज | Updated at : 30 Jul 2021 12:43 PM (IST)

इस साल दुनियाभर में क्रिप्टोकरेंसी की खूब चर्चा है. साल की शुरुआत में बिटकॉइन, डॉजीकॉइन जैसी डिजिटल करेंसियों ने जबर्दस्त उछाल लगाई लेकिन मई आते-आते यह एकदम धड़ाम हो गई. जितनी मुनाफा इसने बनाया था, सब खत्म हो गया. अब धीरे-धीरे इनमें फिर से तेजी आ रही है. इस तरह लोगों के मन में क्रिप्टोकरेंसी को लेकर जबर्दस्त जिज्ञासा है. आइए जानते हैं कि क्रिप्टोकरेंसी दरअसल में है क्या?

क्रिप्टोकरेंसी है क्या?
क्रिप्टोकरेंसी एक डिजिटल मुद्रा है जिसका मूल्य तो होता है लेकिन इसे न तो देखा जा सकता न छूआ जा सकता है. यह सिर्फ डिजिटल रूप में होता है जिससे ऑनलाइन ही लेन-देन किया जा सकता है. जिस तरह से देश की सरकारें निश्चित मूल्य के बदले मुद्रा या कागजी नोट या सिक्के जारी करती है, उस तरह की यह बिल्कुल भी मुद्रा नहीं है. डिजिटल मुद्रा इनक्रिप्टेड यानी कोडेड होती हैं इसलिए इन्हें क्रिप्टोकरेंसी भी कहते हैं. इसका लेन-देन खाता-बही द्वारा प्रबंधित होता है जो इसकी पारदर्शिता को सुनिश्चि करती है. यह सब इनक्रिप्टेड होती है. शुरुआत में इसके वैल्यू को लेकर काफी आशंकाएं थीं. एक समय ऐसा था जब 10 हजार बिटकॉइन से सिर्फ दो पिज्जे खरीदे जा सके थे. आज यह सबसे महंगा टोकन मनी है. कई कंपनियों ने भी क्रिप्टोकरेंसी को स्वीकार करने की घोषणा की है.

क्या यह वैध है
कुछ दक्षिणी अमेरिकी देशों ने क्रिप्टोकरेंसी को मान्यता दी है लेकिन इसके लिए कोई औपचारिक दिशा-निर्देश नहीं है. भारत, अमेरिका सहित लगभग सभी देशों ने क्रिप्टोकरेंसी को अभी मान्यता नहीं दी Cryptocurrency क्या है और यह कैसे काम करती है है. इसलिए यह वैध नहीं है. लेकिन कई देशों के केंद्रीय बैंक इस दिशा में आगे बढ़ रहे हैं. भारत में क्रिप्टोकरेंसी प्रतिबंधित है लेकिन आरबीआई ने हाल ही में कहा है कि वह अपना डिजिटल करेंसी लाने के बारे में विचार कर रहा है.

क्रिप्टोकरेंसी इतना लोकप्रिय क्यों हो रहा है
इसके कई कारण है लेकिन सबसे बड़ा कारण यह है कि इसमें रिटर्न अनुमान से कहीं ज्यादा मिलने लगा है. जिस 10 हजार बिटकॉइन से कभी दो पिज्जा खरीदे जाते थे, अब उस एक बिटकॉइन की कीमत 17 लाख रुपये के आस-पास है. अच्छे रिटर्न की आस में कई लोग बिटकॉइन को खरीदने में वास्तविक मुद्रा लगा रहे हैं. टेस्ला के मालिक एलन मस्क ने कहा है कि क्रिप्टोकरेंसी भविष्य की मुद्रा साबित हो सकती है.

क्रिप्टोकरेंसी का व्यापार कैसे होता है
कॉइन मार्केट कैप वेबसाइट के मुताबिक पूरी दुनिया में 11 हजार से ज्यादा क्रिप्टोकरेंसी का व्यापार सार्वजनिक रूप से एक्सचेंज यानी विनिमय संस्था के माध्यम से हो रहा है. वेबसाइट के मुताबिक वर्तमान में 1.5 ट्रिलियन डॉलर मूल्य की क्रिप्टोकरेंसी बाजार में चल रही है. सबसे ज्यादा एक्सचेंज के माध्यम से क्रिप्टोकरेंसी का लेन-देन हो रहा है. क्रिप्टोकरेंसी के ख़रीद-बिक्री के लिए भारत में इस समय 19 क्रिप्टो एक्सचेंज मार्केट हैं जिनमें वज़ीरएक्स का नाम पिछले दिनों सुर्ख़ियों में था.

कुछ लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी के नाम
बिटकॉइन, इथरनम, टीथर, बिनेंसे कॉइन, कार्डानो, इनमें से बिटकॉइन सबसे पुराना है. 2008 में भारी आर्थिक मंदी के बाद 2009 में इसकी शुरुआत हुई थी. एक छद्म नाम सतोषी नाकामोतो (Satoshi Nakamoto) ने इसे बनाया था.

ये भी पढ़ें-

Published at : 30 Jul 2021 12:35 PM (IST) Tags: Cryptocurrency Bitcoin Ethereum Binance Coin Tether Ether Dogecoin Satoshi Nakamoto Cardano हिंदी समाचार, ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें abp News पर। सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट एबीपी न्यूज़ पर पढ़ें बॉलीवुड, खेल जगत, कोरोना Vaccine से जुड़ी ख़बरें। For more related stories, follow: News in Hindi

क्रिप्टोकरंसी को हिंदी में क्या कहते हैं?

आप सभी जानते हैं कि जिसको देखो वह पैसे के पीछे भाग रहा है उसी पैसे की दूसरा नाम है क्रिप्टोकरंसी cryptocurrency करेंसी के पीछे सभी लोग भाग रहे हैं. बहुत ही कम समय में क्रिप्टोकरंसी cryptocurrency ने फाइनेंसर मार्केट में अपनी सत्ता मजबूत कर दी है ,क्योंकि क्रिप्टोकरंसी cryptocurrency को डिजिटल मनी भी कहा जा सकता है यह केवल ऑनलाइन ही उपलब्ध है। और इसे हम फिजिकली लेन-देन नहीं कर सकते है।

दूसरी करेंसी जैसे कि भारत में रुपए ,यूएसए में डॉलर, यूरोप में यूरो इत्यादि सरकारी देश में लागू करती हैं और इस्तेमाल में लाए जाते हैं ठीक वैसे ही इन करेंसी को भी पूरे दुनिया में इस्तेमाल किए जाते हैं। लेकिन यह समझने वाली बात है कि इन क्रिप्टोकरंसी cryptocurrency के ऊपर गवर्नमेंट का कोई कोई भी हाथ नहीं होता क्योंकि यह Decentrallized Currency करेंसी होती है इसलिए इनको पर कोई भी एजेंसी सरकार का कोई अधिकार नहीं होता, जिसके चलते इसके मूल्य को regulate नहीं किया जा सकता.

आज हम आपको क्रिप्टोकरेंसी crypto currency के बारे में ही बताने वाले हैं कि क्रिप्टोकरंसी crypto currency होती क्या है, इसका हम कैसे यूज कर सकते हैं, इसके बारे में हम आपको विस्तारपूर्वक बताएंगे तो चलिए आपको इसके बारे में बताते हैं.

क्रिप्टोकरेंसी क्या है

क्रिप्टो करेंसी Cryptocurrency को डिजिटल करेंसी कहा जाता है, यह एक तरह का डिजिटल एसिड Digital Asset होता है। जिसका इस्तेमाल चीजों को खरीदने या सर्विस लेने के लिए किया जाता है. इन करेंसी currency में क्रिप्टोकरंसी Cryptocurrency का इस्तेमाल होता है. यह एक Peer to Peer Electronic System होता है। जिसके इस्तेमाल से हम इंटरनेट के माध्यम से रेगुलर करेंसी की जगह हम गुड्स और सर्विस को खरीद सकते और भेज सकते हैं. इस व्यवस्था में सरकार ने बैंक को बिना बताए भी काम हो सकता है, कुछ लोगों का मानना है कि Cryptocurrency का इस्तेमाल गलत तरीके से भी किया जा सकता है. अगर हम पहले क्रिप्टो करेंसी Cryptocurrency की बात करें ,तो वह होगा बिटकॉइन Bitcoin जिसे सबसे पहले दुनिया में इन्हीं कार्य के लिए लाया गया था. अगर आज हम देखें तो लगभग 1000 से भी ज्यादा क्रिप्टोकरंसी Cryptocurrency पूरी दुनिया में मौजूद है, लेकिन उनमें से कुछ ही ज्यादा महत्वपूर्ण है इसके विषय में हम आगे चलकर आपको बताएंगे कि Cryptocurrency को बनाने के लिए क्रिप्टोग्राफी cryptography का इस्तेमाल होता है.

हम अगर हम बात करेंगे क्रिप्टोकरंसी cryptocurrency की तो सबसे पहले जो प्रसिद्ध हुआ है वह क्रिप्टोकरंसी बिटकॉइन cryptocurrency bitcoin है। इससे पहले बनाया गया था और सबसे ज्यादा इस्तेमाल भी में भी इसी का किया जाता है. बिटकॉइन को लेकर काफी controveries आई लेकिन आज भी बिटकॉइन क्रिप्टोकरंसी सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है.

Cryptocurrencies में invest कैसे करें?

क्रिप्टोकरेंसी crypto currency में इन्वेस्ट करने के लिए आपको सही प्लेटफॉर्म का पता होना जरूरी है ,जिसमें आप सही प्लेटफार्म चुनकर उसमें क्रिप्टोकरंसी crypto currency को इन्वेस्ट कर सकते हैं जिसमें आपको ज्यादा फीस देनी नहीं होती है। ऐसा ही भारत में अभी के समय सबसे पॉपुलर Cryptocurrency प्लाट्फ़ोर्म है “Wazirx“। इसमें investment करना और ट्रेडिंग करना बहुत ही आसान है और इसके फाउंडर भी एक भारतीय ही हैं मैं भी इसी में इन्वेस्ट कर रहा हूं कई वर्षों से आप चाहे तो इसमें अपना इनमें पैसा इन्वेस्ट कर सकते हैं.

Cryptocurrencies के प्रकार

1. Bitcoin (BTC)

अगर हम क्रिप्टो करेंसी crypto currency की बात करें तो bitcoin इनकी बात ना हो तो यह बिल्कुल नहीं हो सकता, क्योंकि बिटकॉइन bitcoin दुनिया में सबसे पहले क्रिप्टोकरंसी है। जिसे Satoshi Nakamoto ने 2009 में बनाया था यह डिजिटल करेंसी है जिससे कि केवल ऑनलाइन ही गुड्स और सर्विस को खरीदने के लिए इस्तेमाल किया जाता है, यह एक डी सेंट्रल लाइज de-centralized currency करेंसी है जिसका मतलब है कि इस पर गवर्नमेंट का कोई भी हाथ नहीं होता। इसके मूल्य आज के समय में बहुत ही बढ़ गया है जो कि अब लगभग 1300000 के करीब है एक कॉइन का मूल्य है इसके इससे आप वर्तमान के महत्व के बारे में पता लगा सकते हैं.

2.Ethereum (ETH)

बिटकॉइन Cryptocurrency क्या है और यह कैसे काम करती है Bitcoin जैसे कि एथेरियम ethereum भी ओपन सोर्स डिसेंट्रलाइज्ड ब्लॉकचेन बेस्ट कंप्यूटिंग प्लेटफार्म open-source, decentralized blockchain-based computing platform है. इसके फाउंडर का नाम Vitalik Buterin है. इसके क्रिप्टोकरंसी टोकन को ‘Ether’ भी कहा जाता है। यह प्लेटफार्म उसके यूजर को डिजिटल टोकन बनाने में मदद करता है जिसकी मदद से इसे करेंसी के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है। एक Hard Fork के होने से दो हिस्सों में विभाजित किया गया है Etherem (ETH) और Etheriem Classic (Cryptocurrency क्या है और यह कैसे काम करती है ETC). Bitcoin के बाद ये दूसरा सबसे प्रसिद्ध Cryptocurrency है.

3. Litecoin (LTC)

Litecoin को इन भी एक डिसेंट्रलाइज पियर पियर क्रिप्टोकरंसी decentralized peer to peer cryptocurrency है। जिसे की एक ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर जो कि रिलीज हुआ है। अंडर द एमआईटी फ्लैश X11 under the MIT/X11 license लाइसेंस के अंतर्गत ,इसे 2011 में Charles Lee के द्वारा बनाया गया था। इसे बनाने के पीछे Bitcoin का बड़ा हाथ है। इसकी बहुत सारी फीचर बिटकॉइन से मिलती जुलती है. Litecoin को उनकी ब्लॉक की जनरेशन की टाइम बिटकॉइन के मुकाबले 4 गुना कम है, इसलिए इसमें ट्रांजैक्शन बहुत बहुत ही जल्दी हो जाती है इसमें स्क्रिप्ट एल्गोरिदम का इस्तेमाल होता है इसे माइनिंग mining करने के लिए किया जाता है,

4. Dogecoin (Doge)

Dogecoin इनको बनाने के लिए इसके पीछे एक रोचक कहानी है इसे बिटकॉइन को मजाक करने के लिए कुत्ते से उसकी तुलना की गई आगे चलकर या क्रिप्टोकरंसी के रूप में बन गई। इसके फाउंडर का नाम है Billy Markus,Litecoin की तरह ही इसमें भी Scrypt Algorithm का इस्तमाल होता है..

आज Dogecoin मार्केट वैल्यू $197 million बिलियन से भी ज्यादा है ,इसे पूरे विश्व में 200 मर्चेंट से भी ज्यादा स्थापित किया जाता है इसमें भी माइनिंग का उपयोग किया जाता है.

आज आपने जाना क्रिप्टोकरंसी क्या होती है, क्रिप्टो करेंसी कैसे काम करती है. फिर क्रिप्टोकरंसी के कितने टाइप होते हैं इसके बारे में हमें आपको विस्तार पूर्वक बताया यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूले

क्रिप्टो करेंसी क्या है कैसे काम करती है | CryptoCurrency In Hindi (June 2022)

CryptoCurrency Kya Hai In Hindi: वर्तमान समय में क्रिप्टोकरंसी बहुत ही चर्चा का विषय बन रहा है और दिन प्रतिदिन इसकी लोकप्रियता बढ़ती ही जा रही है पर क्या आप जानते हैं क्रिप्टो करेंसी क्या है कैसे काम करती है | CryptoCurrency In Hindi (June 2022) , इसका इतिहास क्या है और इसके फायदे और इसके नुकसान

दोस्तों आज मैं आपको क्रिप्टो करेंसी के बारे में बहुत ही आसान भाषा से समझाने वाला हूं क्रिप्टो करेंसी दो शब्दों से मिलकर बना हुआ है जिसमें क्रिप्टो का मतलब छिपा हुआ या गोपनीय होता है और करेंसी का मतलब मुद्रा या पैसा होता है

CryptoCurrency In Hindi

cryptocurrency in detail

Table of Contents

क्रिप्टो करेंसी क्या है ( CryptoCurrency In Hindi )

क्रिप्टो करेंसी एक वर्चुअल करेंसी तथा डिजिटल करेंसी है जिसे आप आम करंसी जेसे रुपए और डॉलर के तरह नहीं ना छू सकते हो ना ही पकड़ सकते हो क्योंकि यह एक डिजिटल करेंसी है जो सिर्फ ऑनलाइन कंप्यूटर में ही दिखती है और यह डिजिटल वॉलेट में सेव रहती है सबसे ज्यादा लोकप्रिय करेंसी बिटकॉइन है, जिसे आप अच्छे से जानते होंगे बिटकॉइन का पेमेंट भी एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में ऑनलाइन ही होता हैक्रिप्टो करेंसी एक ऐसी करेंसी है जिस पर किसी भी गवर्नमेंट अथॉरिटी या किसी भी देश या एजेंसी का कोई कंट्रोल नहीं है इसको कंट्रोल सब लोग करते हैं जो लोग इसे खरीदते हैं तथा जो लोग इसे बेचते हैं

क्रिप्टो करेंसी कैसे काम करती

क्रिप्टो करेंसी ब्लॉकचेन तकनीक के माध्यम से काम करती है जो इंक्रिप्टेड मतलब कोडेड होती है जिसे बहुत पावरफुल कंप्यूटर के द्वारा कंट्रोल किया जाता है

क्रिप्टो करेंसी का इतिहास

क्रिप्टो करेंसी की खोज संतोषी नाकामोतो ने 2008 में करी थी लेकिन आज तक यह नहीं पता चल पाया कि Cryptocurrency क्या है और यह कैसे काम करती है जो संतोषी नाकामोतो है क्या वह एक समूह है , क्या यह कोई व्यक्ति है और इन्होंने क्यों क्रिप्टोकरंसी को बनाया और यह कहां रहते हैं और कई ऐसे सवालों के जवाब आज तक किसी के पास नहीं हैक्रिप्टोकरंसी की खोज 2008 में होने के बाद इसका पहली बार मुद्रा के रूप में इसका इस्तेमाल 2009 में किया गया था और सबसे पहले क्रिप्टोकरंसी का नाम बिटकॉइन था जिसको संतोषी नाकामोतो ने बनाया था उस समय बिटकॉइन की कीमत Cryptocurrency क्या है और यह कैसे काम करती है मात्र ₹0 थी लेकिन आज एक बिटकॉइन की कीमत लगभग 23 लाख रुपया है

सबसे ज्यादा लोकप्रिय क्रिप्टोकरंसी बिटकॉइन

बिटकॉइन तो मानो जैसे एक ट्रेंड बन चुका है जिस किसी से भी क्रिप्टोकरंसी के बारे में पूछो तो वह सबसे पहले बिटकॉइन का नाम ही लेता है और ले भी क्यों ना क्योंकि वर्तमान समय में संसार का सबसे ज्यादा मूल्यवान और सबसे ज्यादा लोकप्रिय क्रिप्टोकरंसी बिटकॉइन ही है दूसरे नंबर में सबसे ज्यादा लोकप्रिय क्रिप्टोकरंसी का नाम एथेरियम है और इसकी जैसी कई लोकप्रिय क्रिप्टोकरंसी संसार में मौजूद है अब आपने बिटक्वॉइन, डॉजक्वाइन, लाइटक्वाइन, पोलकाडॉट, चेनलिंक, मूनक्वाइन लेकिन बिटकॉइन शुरू से मार्केट में अपना दबदबा बनाए हुए हैं https://bitcoin.org/hi/how-it-works

कितने तरह की होती है क्रिप्टोकरेंसी?

पूरी दुनिया में इस समय 18,000 क्रिप्टो करेंसी मौजूद है और जैसे-जैसे इसकी लोकप्रियता बढ़ती जा रही वैसे वैसे इसकी संख्या भी दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है और और इनमें से सबसे ज्यादा लोकप्रिय या पॉपुलर क्रिप्टो करेंसी बिटकॉइन है और वर्तमान समय 1 बिटकॉइन की कीमत लगभग 23 लाख भारतीय रुपए हैं और इसकी यह कीमत बढ़ती और घटती रहती है इसके अलावा दुनिया में कई और फेमस क्रिप्टोकरंसी है जिनमें लोग इन्वेस्ट करते हैं जैसे

रेटिंग: 4.82
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 612